Monday, May 9, 2011

Now mainly on MEGHnet

I started blogging on Megh Bhagat on June 10, 2010 and then wrote first post on  MEGHnet on July 3, 2010. Nirat was started on August 30, 2010. Then few more blogs I created and deleted after some time. Blogging is an addiction that increases with a variety of subjects. Creating a blog for the categorization of subjects is good and many famous Bloggers of the world have taken the same route.

Meanwhile, I noticed that my blog Beyond Spiritualism was read by people abroad. For Dr. Dhian Singh's thesis on Kabirpanthis I created a separate blog. Then came few readers with a big bang and with high speed writing. I had to create discussion pages (blogs) for them and also make a discussion group which has a growing membership now.

But the overall experience is that, in a way, it all got scattered.

Now onwards I shall mainly write on MEGHnet. I shall also continue to write Megh Bhagat for the mission it was created.
 
 

मैंने 10 जून 2010 को Megh Bhagat पर ब्लॉगिंग शुरू की थी और 03 जुलाई 2010 को MEGHnet पर पहली पोस्ट डाली. 30 अगस्त 2010 को निरत लिखना शुरू किया. उसके बाद कुछ ब्लॉग बनाए और कुछ देर के बाद मिटाए. ब्लॉगिंग एक नशा है जिसे विषयों की विविधता और बढ़ाती रहती है. विषयों के श्रेणीकरण के लिए अधिक ब्लॉग बनाना अच्छा है. विश्वप्रसिद्ध कई बलॉगरों ने यही रास्ता अपनाया है.

ब्लॉग Beyond Spiritualism को विदेशों में देखा गया. डॉ. ध्यान सिंह के कबीरपंथियों पर लिखे शोधग्रंथ के लिए मैंने एक अलग ब्लॉग बना दिया. कुछ पाठकों की रफ़्तार बहुत तेज़ थी उनके लिए डिस्कशन पेज (ब्लॉग) अलग बनाने पड़े. एक डिस्कशन ग्रुप भी बनाया जिसकी सदस्यता बढ़ रही है.

लेकिन कुल मिला कर अनुभव ने यह था कि यह सब काफी बिखर-सा गया था.

अब मैं मुख्यतः मेघनेट पर लिखूँगा. एक मिशन के साथ शुरू किया गया था इसलिए मेघ भगत पर लिखना जारी रखूँगा.




1 comment:

  1. बहुत सुन्दर निर्णय किया है| धन्यवाद|

    ReplyDelete