Monday, February 28, 2011

Bhagat Mahasabha celebrates Kabir Nirvan Divas


प्रो. राजकुमार भगत, राष्ट्रीय अध्यक्ष, भ.म.स.
प्रो. राजकुमार और राजेश भगत, स्टेट को-ऑर्डिनेटर, पंजाब, भ.म.स.














Bhagat Mahasabha Punjab Unit organized Sadguru Kabir Nirvan Divas at Sujanpur near Pathankot on 27-02-2011. Various delegations from various parts of the country were present. Those who spoke on this occasion included Sh. Mast Ram from Baijnath, Himachal Pardesh; Karuna Karan ji Maharaj from Baijnath Sakri Ashram; Dass Kamala ji; Er. Rajesh Bhagat from Amritsar; Gen. Secy. Bhagat Mahasabha J&K Unit; Sh. Mohinder Bhagat; Smt. Asha Bhagat president Mahila Wing Distt. Gurdaspur; Sh. Dharam Paul Pindar, President Haryana state Rashtriya Sarv Meghvansh Mahasabha India.

जी.एल भगत, ज़िला को-ऑर्डिनेटर, भ.म.स., गुरदासपुर   और राजेश भगत
आशा भगत, अध्यक्ष महिला विंग, भ.म.स., गुरदासपुर

A special arrangement was made to convey the message of Sh. R.P. Singh from Rajasthan. The address was listened through mobile phone. Among others who attended the function were Sh. Bodhraj Bhagat, President Bhagat Mahasabha J&K Unit, Dr. Rajesh Bhagat, and Prof. Raj Kumar Bhagat, President All India Bhagat Mahasabha   

महिंदर पाल भगत, महा सचिव, भ.म.स., जम्मू-कश्मीर
  
राजेश भगत, स्टेट को-ऑर्डिनेटर, भ.म.स., जम्मू-कश्मीर,
बोधराज भगत, स्टेट प्रेज़िडेंट, भ.म.स., जम्मू-कश्मीर, तारा चंद
संगत

महिला विंग, भ.म.स. अतिथियों का स्वागत करते हुए





 

संगत
















   
प्रार्थना में संगत
(Contributed by Sh. Tarachand through email dated 28-02-2011)

Media Coverage


Thursday, February 24, 2011

Bhagat Mahasabha celebrated Nirvan Divas of Sadguru Kabir



Bhagat Mahasabha celebrated Nirvan Divas (20-02-2011) of Sadguru Kabir ji Maharaj at Tatriya,Block Marh in which thousands of the Megh participated to pay homage to greate saint of bhakti movement. Chaudhari Sukhnandan MLA, Marh was the chief guest on the occasion and he announced an assistance Rs.5 lakhs for construction of a community hall at village Tatriyal. He thanked Bhagat community for their support and promised to provide every possible help to the community.


A Satsang Kirtan was held by Swami Milkhi Ram Bhagat of Gorda on the occasion.


While singing the shabad, dohe and sakhian of Kabir Sahibji, Swamiji asked the gathering to follow the teachings of Sadguru Kabir Sahibji as only his teachings could bring Megh community out of backwardness and darkness. He asked Megh community to keep themselves away from alcohol, tobacco, dowry etc.


Prof. Raj Kumar Bhagat, National President of Bhagat Mahasabha appealed to all Megh Samaj to get united for development of community and cautioned the community against the people who betrayed Megh Samaj in the past. He also announced more office bearers to further strengthen Bhagat Mahasabha in J&K.



Bodh Raj Bhagat, State President appealed to the government to declare Prakash Utsav of Sadguru Kabir Sahibji (15 June) a gazetted holiday.



On this occasion, prominent members of Megh Samaj were honored and all present pledged to spread the teachings of Sadguru Kabirji Maharaj in every nook and corner of the state.


Prominent among others were Milkhi Ram Bhagat, Chairman of Coordination Committee, Mohinder Bhagat, Tarachand Bhagat, Sansar Chand Bhagat Charan Dass, Shamsher Bhagat, Balvinder Bhagat, Surinder Bhagat, Tarsem Bhagat, Chaman Lal Bhagat and Haqikat Raj.




Report by Tarachand Marheen, Hgr.

Bhagat Mahasabha J&K Unit Jammu.Date:20-02-2011.Ref.no.BMS/128/2011

Friday, February 18, 2011

History of Kabir Panthis (Megh Bhagat) of Punjab


Are you searching for history of Megh Bhagats? 
Yes, this thesis of Dr Dhian Singh can
guide you through

An enthusiastic young man Mr. Dhian Singh from Kapurthala (Punjab), pioneered research on history of Megh Bhagat community. This was very important from the point of view that his work helps in reconstruction of history of Dalit communities which has been destroyed and corrupted. Researcher Dr. Dhian Singh and director of this research work Dr. Seva Singh have, within the limitations, put in tireless efforts using research methodologies while pursuing intensive study, visits and interviews. Use of libraries for research work is a common thing. Dr. Dhian Singh undertook intensive touring of Jammu-Kashmir, Punjab, Haryana and Rajasthan at his own expense. His hard work together with diligence of his Director helped his thesis through for Ph.D degree in the year 2008.

For the past two years I had been requesting Dr. Singh to help  make his thesis line for the benefit of others. Now on 08-02-2011 he gave me his thesis which was scanned and blogged. It is in the form of PDF file. To make it easy to read please press ‘ctrl’ and +.

I hope that, now, the desire of Meghs will be satiated with regard to their eternal questions as to who they are, who were their ancestors and what they used to do.

This thesis will help change the conventional thinking of Megh community which has been divided in so many names and religions that their social and political integration seems to be a distant dream. This thesis will help the community grow a sense of unity.

Finally big thanks to you Dr. Seva Singhji and Dr. Dhian Singhji. You have done a work of great importance.

The blog link is given below-


 

कपूरथला (पंजाब) के एक उत्साही युवक ध्यान सिंह ने मेघ भगत समुदाय के इतिहास पर शोध करने का बीड़ा उठाया था. यह कार्य बहुत महत्वपूर्ण इसलिए था कि जिन दलित समुदायों का इतिहास नष्ट-भ्रष्ट किया जा चुका हो उनका इतिहास कैसे लिखा जाए. शोधछात्र के तौर पर ध्यान सिंह ने और उनके निर्देशक डॉ सेवा सिंह, डी.लिट्. ने अथक प्रयास और चिंतन के बाद शोध की मान्य पद्धतियों (methodologies) की सीमाओं में रहते हुए गहन अध्ययन, यात्रा और साक्षात्कार का सहारा लेने का निर्णय लिया. शोध के लिए पुस्तकालयों का उपयोग करना एक सामान्य बात है. ध्यान सिंह जी ने इसके लिए स्वयं व्यय करके जम्मू-कश्मीर, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान का दौरा किया. उनके परिश्रम और निर्देशक की सूझ-बूझ ने अपना कार्य बखूबी किया और यह शोधग्रंथ वर्ष 2008 में पी.एच.डी. की डिग्री के लिए स्वीकार कर लिया गया.

मैं दो-एक वर्ष से डॉ ध्यान सिंह से आग्रह कर रहा था कि वे अपने शोधग्रंथ को अन्य के लाभ के लिए ऑन-लाइन करें. अब 08-02-2011 को उन्होंने यह शोधग्रंथ मुझे सौंपा और मैंने उसकी स्कैनिंग कराने के बाद उसे एक ब्लॉग का रूप दे दिया. इसे पढ़ने में कइयों को कठिनाई हुई. अब उसके पीडीएफ के रूप में उपलब्ध कराया गया है. इसे पढ़ना आसान हो गया है. (स्क्रीन पर बड़ा पढ़ने के लिए ctrl और + को दबाएँ.)

मुझे आशा है कि अब हमारे मेघ भाइयों की यह जिज्ञासा शांत हो जाएगी कि हम कौन हैं, कहाँ से आए हैं और हमारे पुरखे क्या करते थे.

सब से बढ़ कर यह शोधग्रंथ मेघ भगत समुदाय की पारंपरिक सोच को बदलने में सहायक होगा जिसे इतने नामों और धर्मों में बाँट दिया गया है कि उनमें सामाजिक और राजनीतिक एकता दूर का सपना लगती है. इसे पढ़ने के बाद इस समुदाय में एकता की भावना बढ़ेगी.

अंत में डॉ ध्यान सिंह और डॉ सेवा सिंह जी को कोटिशः धन्यवाद. आपने बहुत महत् कार्य को संपन्न किया है. 

उक्त ब्लॉग का लिंक नीचे दिया गया है-




Sunday, February 13, 2011

Satsang Bhandhara on the eve of foundation day of Kabir Mandir

कार्यकर्ता
Satsang Bhandhara on the eve of foundation day of Kabir Mandir and Kabir Nirvan Divas at Kanyala near Kishanpur in Udhampur Distt.
About 350 sangat were present in the satsang. Satsang of Kabir Sahib was performed by Sh. Milkhi Ram Akhnoor Wale.
All the members and office bearers of Bhagatmahasabha were present in the satsang. Sh.Bodh Raj Bhagat, President Bhagatmahasabha anounced that he will soon install one high mast light in the mandir.


Sent by:
Sh. Tara chand Bhagat
Marheen. 

Monday, February 7, 2011

Monthly Satsang at Sadguru Kabir Mandir, Old Rehari, Jammu



Monthly Meeting, Satsang and Bhandara were organized today at Sadguru Kabir Mandir, Old Rehari Jammu. More than 350 Members of Bhagat Mahasabha participated in the meeting. While addressing to the meeting Dr.Rajesh Bhagat requested the Sadh Sangat to unite and bring more Sangat to Rehari Mandir for next month Satsang. Kabir Satsang was showered by Sant Sh. Milkhi Ram Ji Maharaj Akhnoorwale. 

Saturday, February 5, 2011

A report via Megh News - मेघ न्यूज़ के साभार एक रिपोर्ट

साभार-रामा टाइम्स
प्रकाशन तिथि-February 2nd 2011

कलांवाली(पंजाब)
मेघवाल महासभा कलांवाली का चुनाव स्थानीय मेघवाल धर्मशाला में डा. हरबंस लाल लीलड़ अध्यक्ष मेघवाल सभा पंजाब, धन्नाराम ऋषि अध्यक्ष मेघवाल सभा हरियाणा, हनुमान दास पटीर अध्यक्ष जिला सिरसा की देखरेख में हुआ। इस चुनाव में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पूर्व सदस्य बलकौर सिंह कलांवाली को प्रधान, फूल सिंह मुक्तसरिया व अमर सिंह जौरसिया को उपप्रधान, गुरतेज सिंह सोढ़ी को कोषाध्यक्ष, रामकुमार को सदस्य, कृष्ण कुमार भाटिया को प्रचार सचिव, पवन कुमार जौरसिया को सह सचिव, डा. संतराम को संगठन सचिव, बृज लाल सूड़ा को सलाहकार मनोनीत किया गया।

इस बैठक में मेघवाल सभा के चुनाव के अलावा कई अन्य निर्णय भी लिए गए जिनमें मेघवाल समाज द्वारा मृत्यु भोज को बंद करना, जाति का वर्गीकरण समाप्त करना, चमार शब्द के स्थान पर मेघवाल शब्द का प्रयोग करना जोकि उच्चतम न्यायालय द्वारा बदला गया है। डा. हरबंस लाल लीलड ने कहा कि सभी मेघंवशियों को जाति प्रमाण पत्र बनवाते समय अपनी मेघवाल जाति ही लिखवानी चाहिए जोकि अनुसूचित जाति की सूची में क्रमांक 24 पर दर्ज है।

लिंक- http://ramatimes.com/?p=14644

--
प्रमोदपाल सिंह मेघवाल द्वारा मेघ न्यूज़ के लिए 2/02/2011 08:04:00 AM को पोस्ट किया गया

Friday, February 4, 2011

Caste based census - जाति आधारित जनगणना

दिलीप मंडल के आलेख का सार-संक्षेप

मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू होने के बाद से ही इस बात की मांग उठने लगी थी कि देश में जाति आधारित जनगणना करायी जाए.  इससे किसी समुदाय के लिए विशेष अवसर और योजनाओं को लागू करने का वस्तुगत आधार और आंकड़े संभव हो जाते हैं. वित्त मंत्री प्रणव मुखर्जी पर विश्वास करें तो इस बार जाति आधारित जनगणना होगी.

लगभग सभी राजनीतिक दल जाति आधारित जनगणना के समर्थन में आए हैं. जातिगत जनगणना के विरोधी अपने कुतर्कों के साथ अपना पक्ष रख रहे हैं. एक पक्ष जातिगत जनगणना की जगह केवल ओबीसी की गणना कराना चाहता है. ऐसे शार्टकट विचारहीनता ही दर्शाते हैं.

ओबीसी गणना के समर्थकों का तर्क है कि कुल आबादी से दलित, आदिवासी और ओबीसी आबादी के आंकड़ों को निकाल दें तो इस देश में हिंदू अन्ययानी सवर्णों की आबादी का पता चल जाएगा. सवर्णों के लिए तो इस देश में सरकारें किसी तरह का विशेष अवसर नहीं देतीं अतः सवर्ण जातियों के अलग आंकड़े एकत्रित करने से मिलेगा क्या? जो भी व्यक्ति जनगणना के दौरान खुद को दलित, आदिवासी या ओबीसी नहीं लिखवाएगा, वह सवर्ण होगा. यह अपने आप में ही अवैज्ञानिक विचार है. इस आधार पर कोई व्यक्ति अगर खुद को जाति से ऊपर मानता है और जाति नहीं लिखाता, तो भी जनगणना में उसे सवर्ण (हिंदू अन्य) गिना जाएगा. जबकि वास्तविकता कुछ और होगी.

यदि कोई व्यक्ति अल्पसंख्यक की श्रेणी में दर्ज छह धर्मों में से किसी एक में अपना नाम नहीं लिखाता, उसे हिंदू मान लिया जाता है. यानी कोई व्यक्ति अगर आदिवासी है और अल्पसंख्यक श्रेणी के किसी धर्म में अपना नाम नहीं लिखाता, तो जनगणना कर्मचारी उसके आगे हिंदूलिख देता है. इस देश के लगभग 8 करोड़ आदिवासी जो न वर्ण व्यवस्था मानते हैं, न पुनर्जन्म और न हिंदू देवी-देवता, उन्हें इसी तरह हिंदू गिना जाता रहा है. उसी तरह अगर कोई व्यक्ति किसी भी धर्म को नहीं मानता, तो भी जनगणना की दृष्टि में वह हिंदू है. अगर जातिगत जनगणना की जगह दलित, आदिवासी और ओबीसी की ही गणना हुई तो किसी भी वजह से जो हिंदूव्यक्ति इन तीन श्रेणियों में अपना नाम नहीं लिखाता, उसे जनसंख्या फॉर्म के हिसाब से हिंदू अन्यकी श्रेणी में डाल दिया जाएगा. इसका नतीजा हमेंहिंदू अन्यश्रेणी की बढ़ी हुई संख्या की शक्ल में देखने को मिल सकता है. अगर हिंदू अन्यका मतलब सवर्ण लगाया जाए तो पूरी जनगणना का आधार ही गलत हो जाएगा. दलित, आदिवासी और ओबीसी की लोकतांत्रिक शक्ति का आकलन नहीं हो पाएगा.  

साथ ही अगर जनगणना फॉर्म में तीन श्रेणियों आदिवासी, दलित और ओबीसी और अन्य की श्रेणी रखी जाती है, तो चौथी श्रेणी सवर्ण रखने में क्या समस्या है. यह कहीं अधिक वैज्ञानिक तरीका होगा.
जातिगत जनगणना के विरोधियों का विचार है कि जातिगत जनगणना कराने से समाज में जातिवाद बढ़ेगा. यह एक कुतर्क है. क्या धर्म का नाम लिखवाने से ही सांप्रदायिकता बढ़ती है?

भारतीय समाज में राजनीति से लेकर शादी-ब्याह तक के फैसलों में जाति अक्सर निर्णायक पहलू के तौर पर मौजूद है. ऐसे समाज में जाति की गिनती को लेकर भय क्यों है? जाति भेद कम करने और आगे चलकर उसे समाप्त करने की पहली शर्त यही है कि इसके सच को स्वीकार किया जाए और जातीय विषमता कम करने के उपाय किये जाएं. जातिगत जनगणना जाति भेद के पहलुओं को समझने का प्रामाणिक उपकरण साबित हो सकती है. इस वजह से भी आवश्यक है कि जाति के आधार पर जनगणना करायी जाए.

कहा जाता है कि ओबीसी नेता संख्या बल के आधार पर अपनी राजनीति मजबूत करना चाहते हैं. लोकतंत्र में राजनीति करना कोई अपराध नहीं है और संख्या बल के आधार पर कोई अगर राजनीति में आगे बढ़ता है या ऐसा करने की कोशिश करता है, तो इस पर किसी को एतराज क्यों होना चाहिए? लोकतंत्र में फैसले अगर संख्या के आधार पर नहीं होंगे, तो फिर किस आधार पर होंगे?

जनगणना प्रक्रिया में यथास्थिति के समर्थकों का एक तर्क यह है कि ओबीसी जाति के लोगों को अपनी संख्या गिनवाकर क्या मिलेगा. उनके मुताबिक ओबीसी की राजनीति के क्षेत्र में बिना आरक्षण के ही अच्छी स्थिति है. मंडल कमीशन के बाद सरकारी नौकरियों में उन्हें 27 फीसदी आरक्षण हासिल है. केंद्र सरकार के शिक्षा संस्थानों में भी उन्हें आरक्षण मिल गया है. वे आशंका दिखाते हैं कि हो सकता है कि ओबीसी की वास्तविक संख्या उतनी न हो, जितनी अब तक सभी मानते आए हैं.

अगर देश की कुल आबादी में ओबीसी की संख्या 27 फीसदी से कम है, तो उन्हें नौकरियों और शिक्षा में 27 फीसदी आरक्षण क्यों दिया जाना चाहिए? यूथ फॉर इक्वैलिटी जैसे संगठनों और समर्थक बुद्धिजीवियों को तो इस आधार पर जाति आधारित जनगणना का समर्थन करना चाहिए!
रोचक है कि जातिगत जनगणना का विरोध करने वाले ये वही लोग हैं, जो पहले नौकरियों में आरक्षण के विरोधी रहे. बाद में इन्होंने शिक्षा में आरक्षण का विरोध किया. ये विचारक इसी निरंतरता में महिला आरक्षण का समर्थन करते हैं. तथ्य यह है कि जाति के प्रश्न ने राजनीतिक विचारधारा के बंधनों को लांघ लिया है. जाति के सवाल पर वंचितों के हितों के खिलाफ खड़े होने वाले कुछ भी हो सकते हैं, वे घनघोर सांप्रदायिक से लेकर घनघोर वामपंथी और समाजवादी हो सकते हैं. जाति संस्था की रक्षा का वृहत्तर दायित्व इनके बीच एकता का बिंदु है. लोकतंत्र की बात करने के बावजूद ये समूह संख्या बल से घबराता है.

अगर बौद्धिक विमर्श से देश चल रहा होता, तो नौकरियों और शिक्षा में आरक्षण कभी लागू नहीं होता. जाहिर है लोकतंत्र में जनता की और संख्या की ताकत के आगे किसी का जोर नहीं चलता. इस देश में जातीय जनगणना के पक्ष में माहौल बन चुका है. यह साबित हो चुका है कि इस देश की लोकसभा में बहुमत जाति आधारित जनगणना के पक्ष में है.
पूरा आलेख आप यहाँ पढ़ सकते हैं:- जाति जनगणना का प्रश्‍न- दिलीप मंडल